NIRD&PR

Skip Navigation Links

आजीविका के लिए केंद्र

अधिदेश

आजीविका केंद्र, सरकार के अधिदेश में ग्रामीण आजीविका व्यवसायिओं की क्षमता को बढ़ाने के लिए, सरकार की ग्रामीण भारत के जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने की दिशा में जीवन ज्ञान और कौशल, प्रशिक्षण और अनावरण के माध्यम से एक सचेत प्रयास है जिससे उन्हें सेवाओं के कुशल वितरण में सक्षम बना बनाया जा सके I

उद्देश्य

  • शोध अध्ययन और सतत ग्रामीण आजीविका पर कार्य अनुसंधान को आगे बढ़ाना ताकि नीतिगत ढांचे और कार्यक्रम के डिजाइन में मदद मिल सके I
  • प्रशिक्षण, सम्मेलनों, गोष्ठियां, सेमिनार और कार्यशालाओं के माध्यम से ग्रामीण आजीविका व्यवसायीओं को सतत आजीविका की रूपरेखा , रणनीतियों, गतिविधियों, परिणामों, सुरक्षा, संपत्ति और आजीविका के महत्तव के बारे में जागरूक करना ।

Thrust Area & Scope

केंद्र के महत्वपूर्ण क्षेत्र निम्नलिखित हैं:

A. सतत ग्रामीण आजीविका

  • कृषि, खाद्य और पोषण सुरक्षा, प्राकृतिक संसाधन और पर्यावरण सेवा।
  • संस्था, संबंध और राजनीति।
  • प्रौद्योगिकी, कौशल और स्वास्थ्य।
  • आधारभूत संरचना, उपकरण आदि
  • परिवर्तनीय संपत्ति/ बचत, नकद।

B.आजीविका में विश्लेषणात्मक उपकरण और तकनीक का आवेदन

  • आजीविका का ढांचा (संघटक, बाधाएं, रणनीतियाँ, संपत्ति और प्रौद्योगिकी)।
  • आजीविका का विविधीकरण - परिवर्तन के ड्राइवरों।
  • जोखिम, भेद्यता और झटके से उभरने का तंत्र।
  • गरीबी और सामाजिक प्रभाव विश्लेषण।
  • स्टेक होल्डरों का विश्लेषण।
  • पर्यावरण प्रभाव आकलन।
  • प्राकृतिक पूंजी की मूल्य के तरीके।
  • आजीविका की स्थिरता का विश्लेषण।

C. नीति, वितरण और शासन

  • नीति, प्रसव और शासन
  • राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) - आजीविका महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना (एम के एस पी), आजीविका - कौशल विकास कार्यक्रम; एकीकृत जलग्रहण प्रबंधन कार्यक्रम (आईडब्ल्यूएमपी); महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा); राष्ट्रीय बागवानी मिशन (एनएचएम); राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (आरकेवीवाई) आदिI
  • क्षेत्र-वार विकास
    • सतत कृषि - खेत और गैर कृषि के क्षेत्र- गैर लकड़ी वन की उपज।
    • डेरी सहित पशुपालन ।
    • माइक्रो वित्त।
    • बागवानी।
    • कुटीर उद्योग।
    • ग्रामीण सेवा।
    • रोजगार।
    • ग्रामीण युवा, स्व-रोज़गार और उद्यमिता
    • कौशल प्रशिक्षण।
    • बाजार।

D. डी संमिलन और आजीविका में भागीदारी

आजीविका के घटकों के साथएमआर एनआरईजीएस , पीएमकेएसवाई, आईडब्ल्यूएमपी, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना, राष्ट्रीय बागवानी मिशन, पी एमएवाई आदि के रूप में मुख्य कार्यक्रमI

  • पंचायती राज संस्थाओं, गैर सरकारी संगठनों और सीएसओ के साथ संबंध।
  • मूल्य श्रृंखला पर आधारित व्यापार साझेदारी और बाजार संबंध, भारतीय रिजर्व बैंक के साथ सहयोग, एनएबीएआरडी सार्वजनिक उपक्रमों और अन्य वित्तीय / बैंकिंग संस्थानों के साथ साझेदारी

संकाय

डॉ. पी शिवराम

प्रोफेसर एवं अध्यक्ष

शैक्षिक योग्यता : एम ए (समाजशास्‍त्र) एम फिल, पी एच डी, एम बी ए (एच आर एम)
विशेषज्ञ क्षेत्र : ग्रामीण पेयजल और स्‍वच्‍छता ग्रामीण आजीविकास, एच आर डी, सहभागी प्रशिक्षण एवं विकास तथा सामाजिक सुरक्षा
ईमेल : sivaram.nird[at]gov.in
फ़ोन : (+91) 040-24008541
परिचय देखें


डॉ. यू हेमन्‍त कुमार

सह - प्राध्यापक

शैक्षिक योग्यता : एम एम फिल ,पी एच डी (अर्थशास्‍त्र)
विशेषज्ञ क्षेत्र: विकास अर्थशास्‍त्र सतत ग्रामीण आजीविका सहभागी सिंचाई प्रबंधन, प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन, मजदूरी रोजगार
ईमेल : hemanthakumar.nird[at]gov.in
फ़ोन : (+91) 040-24008486
परिचय देखें


डॉ जी वी कृष्णा लोही दास

सहायक प्रोफेसर (विरष्ठ मान)

शैक्षिक योग्यता : एम एम फिल ,पी एच डी (अर्थशास्‍त्र)
विशेषज्ञ क्षेत्र : विकास अर्थशास्‍त्र सतत ग्रामीण आजीविका सहभागी सिंचाई प्रबंधन, प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन, मजदूरी रोजगार
ईमेल : gvklohidas.nird[at]gov.in
फ़ोन :
परिचय देखें


डॉ पी राज कुमार

सहायक प्रोफेसर

शैक्षिक योग्यता : एम ए एम फिल पी एच डी (अर्थशास्‍त्र)
विशेषज्ञ क्षेत्र : सूविकास अर्थशास्‍त्र सहभागी ग्रामीण मूल्‍यांकन, सतत ग्रामीण आजीविका, ग्रामीण विकास कार्यक्रमों का समाजार्थिक प्रभाव मूल्‍यांकन निर्धनता, कृषि, जलागम का समाजार्थिक प्रभाव मूल्‍यांकन
ईमेल : prajkumar.nird[at]gov.in
फ़ोन :
परिचय देखें

 

Last Update :